15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबन्ध | Hindi Essay on Independence Day

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबन्ध

swatantrata diwas par nibandh | नमस्कार दोस्तों 15 अगस्त आने वाला हैं। आप सभी को 15 अगस्त की हार्दिक शुभकामनाएं। इस पोस्ट मे मैं आपको  स्वतंत्रता दिवस पर निबन्ध लिखना सिखाऊँगा। 15 अगस्त पर निबंध लिखने के लिए यह लेख पढे। 

स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं 

स्वतंत्रता दिवस पर निबन्ध

प्रस्तावना  

प्रति वर्ष 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता हैं। आज हमारा भारत 75वां स्वतंत्रता दिवस मन रहा हैं। यह दिन भारत का सबसे सुनहरा दिन हैं। इस दिन को पाने के लिए हमारे कई स्वतंत्रता संग्रामी वीरगति को प्राप्त हुए। हमारा भारत 200 वर्षों से अंग्रेजों का गुलाम था। 15 अगस्त 1947 उन 200 वर्षों के अँधेरों की समाप्ति था। इसी दिन पहली बार भारत की राजधानी दिल्ली मे तिरंगा फहराया गया था। 

स्वतंत्रता दिवस का महत्व 

हमारा देश 200 वर्षों से अंग्रेजों के अधीन था। आजादी के इस दिन को पाने के लिए कितने लोगों ने अपनी जान दी हैं। स्वतंत्रता दिवस उन्हीं की याद मे मनाया जाता हैं। स्वतंत्र दिवस इसलिए मनाया जाता हैं की हम उन महान लोगों को भूल ना जाए जिनकी वजह से आज हम स्वतंत्र हैं। लोग यह जान सके की इस आजादी के लिए हमारे लोगों ने कितनी कुर्बानी दी हैं। 


भारत के स्वतंत्रता सेनानी 

हमारे देश मे को आजाद करने के लिए कई महान लोगों ने अपनी जान कुर्बान जी हैं। मंगल पांडे, भगत सिंह , रानी लक्ष्मीबाई, चंद्रशेखर आजाद, बाल गंगाधर तिलक, सुभाष चंद्र बोस , वल्लभभाई पटेल, भीमराव अम्बेडकर, खुदीराम बोस, बिरसा मुंडा, बिपिन चन्द्र पाल जैसे कुछ महान स्वतंत्रता सेनानियों की वजह से हमारा भारत आजद हुआ। यह केवल कुछ सेनानी हैं जो इतिहास के पन्ने मे लिखे गए। कई ऐसे भी सेनानी हुए जिनके बारे मे इतिहास मे कुछ लिखा भी नहीं गया।


15 अगस्त 1947 का इतिहास

15 अगस्त 1947 के दिन हमारा देश आजाद हुआ। 15 अगस्त 1947 को  सुबह 11 बजे देश के पहले प्रधान मंत्री जवाहर लाल नेहरू ने  लाल किला मे तिरंगा फहराया था। इसी के एक दिन पहले 14 अगस्त को भारत और पाकिस्तान का बटवारा हुआ था। 


स्वतंत्रता दिवस 2021 कैसे मनाया जाएगा 

इस साल के स्वतंत्रता दिवस का मुख्य थीम हैं नेशन फर्स्ट, ऑलवेज फर्स्ट’ हैं। हर वर्ष की तरह भारत के प्रधानमंत्री लाल किला मे ध्वजारोहण करेंगे। इस बार टोक्यो ओलिम्पिक मे मेडल विजेताओ को लाल किले मे आमंत्रित किया गया हैं। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी लगातार 8वीं बार ध्वजारोहण करेंगे। प वर्ष की तरह इस बार भी लोग मौजूद नहीं होंगे। 


निष्कर्ष

हमारे देश भारत को यह आजादी बड़ी कीमत चुकाने के बाद मिली हैं। हमें इस आजादी का सम्मान करना चाहिए। हमे इस आजादी की मूल्य को समझना चाहिए। हमारे स्वतंत्रता सेनानियों को याद करना चाहिए। यदि हमारे अमूल्य रत्न नहीं होते तो शायद आज भी हम अंग्रेजों के गुलाम होते। 



इन्हे  भी पढे 

अंत मे 

उम्मीद हैं आपको यह पोस्ट पसंद ये होगा। इस पोस्ट मे मैंने आपको 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर निबन्ध (swatantrata diwas par nibandh) लिखना सिखाया हैं। यदि यह पोस्ट पसंद आए तो इसे जरूर शेयर करें। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here